उत्तराखंड और छत्तीसगढ़ में मुस्लिम भागीदारों द्वारा दो हिंदू महिलाओं की हत्या: विवरण पढ़ें

उत्तराखंड और छत्तीसगढ़ में मुस्लिम भागीदारों द्वारा दो हिंदू महिलाओं की हत्या: विवरण पढ़ें


दो चौंकाने वाला मामलों उत्तराखंड और छत्तीसगढ़ में क्रमश: हिंदू महिलाओं पर मुस्लिम पुरुषों द्वारा अत्याचार के मामले सामने आए हैं।

पहले में घटनाउत्तराखंड के उधम सिंह नगर जिले में नूर हसन ने एक हिंदू महिला की शेविंग ब्लेड से गला रेत कर हत्या कर दी. 29 मई सोमवार को उसकी नग्न लाश गन्ने के खेत में मिली थी।

मृतक पीड़िता के गले पर काटने का निशान था। आशंका जताई जा रही है कि हत्या से पहले पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया गया। मृतक महिला के पति ने ठेकेदार नूर हसन, जिसके साथ मृतका पहले काम करती थी, पर हत्या का आरोप लगाया है।

नूर हसन पर लगे आरोपों के आधार पर मामले की जांच कर रही पुलिस ने नूर हसन को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी। शुरुआती पूछताछ के दौरान आरोपी ने बार-बार आरोपों से इनकार किया लेकिन पुलिस के कड़े कदम उठाने के बाद उसने कबूल कर लिया।

पुलिस अधीक्षक अभय प्रताप सिंह ने खुलासा किया कि पूर्व वास्तव में महिला की हत्या के लिए जिम्मेदार था। पीड़िता उसके यहां मजदूरी करती थी और दोनों पिछले आठ साल से रिलेशनशिप में थे।

नूर हसन ने पुलिस के सामने स्वीकार किया है कि उसके और महिला के बीच अनबन हुई थी, जिस दौरान उसने महिला से मारपीट की थी। नतीजतन, उसे मस्तिष्क की चोट लगी और उसकी मृत्यु हो गई। उसके बाद गन्ने के खेत में उसके शरीर को फेंकने से पहले हत्या को एक नया कोण देने की कोशिश में उसने एक रेजर ब्लेड से उसका गला काट दिया।

छत्तीसगढ़ में लव जिहाद

दूसरा कथित मामला है लव जिहाद जो छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में सामने आया है। यहां दानिश खान नाम के शादीशुदा मुस्लिम शख्स ने अनुसूचित जनजाति समुदाय की एक लड़की को अपने ‘प्रेम’ जाल में फंसा लिया. दोनों साथ रहने लगे।

जब वह गर्भवती हो गई तो उसने गर्भपात के लिए दवा खिला दी। परिणामस्वरूप उसका गर्भपात हो गया और उसका स्वास्थ्य भी बिगड़ गया। इसके बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई।

खबरों के मुताबिक महिला की तीन महीने पहले मौत हो गई थी। उसका स्वीकारोक्ति हालांकि, वीडियो हाल ही में सामने आया है। वीडियो में उसे अपने साथी पर मारपीट और प्रताड़ना देने का आरोप लगाते हुए सुना जा सकता है। वीडियो कथित तौर पर तीन भागों में रिकॉर्ड किया गया था। सोशल मीडिया पर जो वायरल हुआ उसमें पीड़िता यह कहते सुनाई दे रही है कि दानिश बेल्ट से उसके साथ मारपीट करता था। उसने आगे कहा कि दानिश ने उसे कभी नहीं बताया कि वह पहले शादीशुदा था। पीड़िता, जो स्पष्ट रूप से डरी हुई लग रही थी, ने आगे कहा कि उसने कभी उससे शादी नहीं की।

वह उसे छोड़ना चाहती थी, लेकिन वह उसे जाने नहीं दे रहा था। वह उसे लगातार प्रताड़ित करता था। उसने यह भी खुलासा किया कि उसके पहले दानिश के साथ एक बच्चा था, जो बच्चे के जन्म के दो दिन बाद अस्पताल से चला गया था। इसके बाद से बच्चा लापता है।

मृतक के भाई का आरोप है कि दानिश ने पहचान छुपाकर उसकी बहन से दोस्ती की और संबंध बनाए। वह उस पर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव भी डालता था और फिर ऐसा करने से मना करने पर उसके खिलाफ शारीरिक रूप से प्रतिशोध लेता था। उन्होंने आगे दानिश खान पर अपनी बहन के साथ हुए पहले बच्चे को बेचने या मारने का आरोप लगाया।

उन्होंने न्याय की गुहार लगाई और आग्रह किया कि अपराधी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया जाए और साथ ही जांच के संचालन के लिए उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की अध्यक्षता में एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया जाए।

शिकायत के आधार पर पुलिस ने 29 मई को छत्तीसगढ़ के रायगढ़ के चक्रधर नगर थाने में दानिश खान के खिलाफ आईपीसी की धारा 304 (गैर इरादतन हत्या) के तहत मामला दर्ज किया। इसके बाद पुलिस ने 30 मई को दानिश को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *