Pandit Birju Maharaj Passed Away: कथक के दिग्गज बिरजू महाराज (Birju Maharaj) का रविवार देर रात दिल का दौड़ा पड़ने से निधन हो गया. कुछ दिन पहले ही उनकी किडनी की बीमारी का पता चला था और वह डायलिसिस पर थे. मशहूर कार्टूनिस्ट इरफान ने अपने कार्टून के जरिए बिरजू महाराज को श्रद्धांजलि दी है.

कार्टूनिस्ट इरफान (Irfan Ka Cartoon) ने अपना कार्टून दिखाते हुए कहा, ‘आज का दिन चुटकी लेने का नहीं, बल्कि चुप रहने का है. हमारे लिए शोक का दिन है. कथक गुरु बिरजू महाराज हमारे बीच नहीं रहे. उनके बिना कथक की कल्पना करना मुमकिन भी नहीं है. इसलिए आज का कार्टून बिरजू महाराज जी को श्रद्धांजलि स्वरूप है.’

देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण से सम्मानित बिरजू महाराज आजीवन कथक गुरु होने के साथसाथ एक प्रतिभाशाली हिंदुस्तानी शास्त्रीय गायक और तालवादक भी थे. उन्हें सत्यजीत रे के ऐतिहासिक नाटकशतरंज के खिलाड़ी‘ (जिसके लिए उन्होंने भी गाया था) में दो नृत्य दृश्यों के लिए और 2002 के देवदास वर्जन में माधुरी दीक्षित पर चित्रितकाहे छेड़ मोहेट्रैक के लिए सिनेमा प्रेमियों द्वारा याद किया जाता है. बिरजू महाराज ने कमल हासन की बहुभाषी मेगाहिटविश्वरूपममेंउन्नई कानाधू नानको कोरियोग्राफ करने के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार और बाजीराव मस्तानी गीतमोहे रंग दो लालके लिए फिल्मफेयर पुरस्कार जीता था.

बिरजू महाराज लखनऊ घराने के जगन्नाथ महाराज के पुत्र थे, जिन्हें अच्चन महाराज के नाम से जाना जाता था, जिन्हें उन्होंने केवल नौ वर्ष की उम्र में खो दिया था. उनके चाचा प्रसिद्ध शंभू महाराज और लच्छू महाराज थे. बिरजू महाराज श्रीराम भारतीय कला केंद्र और संगीत नाटक अकादमी कथक केंद्र, दिल्ली में पढ़े लिखे, जहां से वे 1998 में निदेशक के रूप में सेवानिवृत्त हुए थे.

ये भी पढ़ें-

बिरजू महाराज ने अंताक्षरी खेलते-खेलते ली अंतिम सांस, PM मोदी ने कहा- कला जगत के लिए अपूरणीय क्षति

बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर गुड न्यूज़, मार्च से लग सकता है 12-14 साल के बच्चों को टीका



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.