Bomb Scare At Ghazipur Market: गाज़ीपुर मंडी में मिले विस्फोटक की जांच दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल कर रही है लेकिन 3 दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक दिल्ली पुलिस के हाथ खाली है. अभी तक पुलिस को ऐसा कोई सुराग नहीं मिला है जिससे ये पता चल सके कि गाज़ीपुर मंडी में बम किसने रखा था. NSG की जांच में सामने आया कि इस बम में 3 किलो विस्फोटक था और ये RDX और अमोनियम नाइट्रेट को मिक्स करके बनाया गया था.

स्पेशल सेल के सूत्रों के मुताबिक दिल्ली में ऐसा पहली बार हुआ है जब RDX और अमोनियम नाइट्रेट को मिक्स करके बम बनाया गया हो. स्पेशल सेल के सूत्रों का कहना है कि ऐसा इसलिए किया गया ताकि ज्यादा से ज्यादा तबाही हो. 

स्पेशल सेल के सूत्रों की माने तो ये साजिश पाकिस्तान ने रची और इसमें खुफिया एजेंसियों को पाकिस्तान की ISI के हाथ होने का शक है. स्पेशल सेल के सूत्रों ने यह भी बताया कि दिल्ली में एक बार फिर कहीं ना कहीं स्लीपर सेल एक्टिव हो गए हैं और स्लीपर सेल ने ही बम को गाजीपुर सब्जी मंडी के गेट नंबर 1 पर प्लांट किया होगा.

इतना ही नहीं सेल के सूत्रों का ये भी कहना है कि इसके तार पंजाब से भी जुड़े हो सकते है. दरअसल स्पेशल सेल ये बात इसलिए कह रही है क्योंकि दिल्ली में जो IED बरामद की गई है उसमें और पंजाब में मिल रही IED में काफी समानता है. ये वो IED हैं जो पिछले 6 महीनों से पंजाब में मिल रही है.

दरअसल पिछले साल पाकिस्तान की सीमा से सटे पंजाब के अलग-अलग इलाकों में 40 के करीब ड्रोन आए थे. इन सभी ड्रोनों में हथियार, गोला बारूद और विस्फोटक था. इन सभी ड्रोनों से जो विस्फोटक गिराए गए थे वो बरामद कर लिए गए थे लेकिन एजेंसियों को ऐसा लगता है कि कुछ जरूर होंगे जो आतंकियों के हाथ लगे. इसलिए दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को शक है कि दिल्ली में बरामद IED उसी का एक हिस्सा है.

इसके अलावा दिल्ली पुलिस की टीम गाजीपुर सब्जी मंडी में लगे करीब 80 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरों की जांच कर रही है लेकिन सीसीटीवी कैमरा से अभी तक कोई भी सुराग पुलिस के हाथ नहीं लगा है. 

Covid 19 Cases In Delhi: दिल्ली में कल के मुकाबले आज आए कोरोना के कम केस, संक्रमण दर 27.99 फीसदी पर पहुंची



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.