Kashmir News: उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा ज़िले में पुलिस और सेना ने लश्कर के एक आतंकी को गिरफ्तार किया है. आतंकी के कब्जे से हथियार और गोला-बारूद भी बरामद किए गए हैं. गिरफ्तारी बांदीपोरा के चंदरगीर हाजिन इलाके से की गयी है. पुलिस के अनुसार प्रारंभिक पूछताछ के दौरान उसने अपनी पहचान शब्बीर अहमद डार के रूप में बताई है. 

जम्मू कश्मीर पुलिस के अनुसार गुरुवार को लश्कर से जुड़े टीआरएफ के आतंकवादियों की सूचना मिलते ही कार्रवाई करते हुए बांदीपोरा पुलिस ने सेना के साथ चक-चंदरगर हाजिन में एक नाका लगाया. इस दौरान पैदल चलने वालों और वाहनों की तलाशी लेते दौरान एक संदिग्ध व्यक्ति ने नाका पार्टी को देखकर अपनी उपस्थिति छिपाने की कोशिश की जिसे चतुराई से पकड़ लिया गया. पकड़े गए व्यक्ति की तलाशी पर उसके पास से 1 चीनी ग्रेनेड बरामद किया गया और पूछताछ के बाद इनके द्वारा किये गए खुलासे पर 1 चीनी पिस्तौल, 1 पिस्टल मैगज़ीन, 4 पिस्टल राउंड और 2 और चीनी हैंड ग्रेनेड बरामद किए गए. 

पुलिस ने बताया कि टीआरएफ आतंकी संगठन का एक हाइब्रिड आतंकवादी होने के नाते वह सीमा पार पाकिस्तान में बैठे लाला उमर और हुजैफा जैसे आकाओं के निर्देश पर काम कर रहा था. वह अब्बास शेख (अब मारा जा चुका) और बासित एक सक्रिय आतंकवादी के संपर्क में था और उसे बांदीपोरा ज़िले में खासकर हाजिन में स्थानीय उग्रवाद को पुनर्जीवित करने का काम सौंपा गया था. चूंकि लश्कर-ए-तैयबा के सलीम पर्रे के खात्मे के बाद हाजिन इलाके में कोई स्थानीय सक्रिय आतंकवादी नहीं बचा है.

Firing on Owaisi Car: किस पर शक, हमले के वक्त वहां क्या थे हालात? काफिले पर गोलीबारी के बाद ओवैसी ने बताया सबकुछ

गौरतलब है कि शब्बीर लश्कर-ए-तैयबा के ऑपरेटिव बशीर पुज्जी (अब जेल में है) और मुजफ्फर नाटा (मारा जा चुका) के निर्देश पर लश्कर के संगठन के लिए काम कर रहा था. उसे वर्ष 2017 में विध्वंसक गतिविधियों में शामिल होने और उस समय हाजिन इलाके में लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर के साथ निकटता के लिए गिरफ्तार किया गया था. जेल में रहते हुए वह कुछ लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादियों से प्रेरित था, जो जेल से बाहर होने के बाद स्थानीय भर्ती के माध्यम से टीआरएफ/एलईटी को पुनर्जीवित करने के लिए उसके साथ बंद थे. इसके तुरंत बाद उसने विध्वंसक गतिविधियां शुरू कीं. 

इससे पहले कि वह स्थानीय युवाओं को उग्रवादी रैंकों में शामिल होने के लिए प्रेरित करके अमन और शांति को कोई और नुकसान पहुंचा पाता, उसे गिरफ्तार कर लिया गया. इस संबंध में हाजिन पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया है और आगे की जांच शुरू की गई है.

यह भी पढ़ेंः UP Election: अखिलेश यादव की ‘लाल पोटली’ पर राजनाथ सिंह का तंज, बताया क्यों सपा नेता ने इसे हाथों में उठाया



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.