PM Modi Speech: भारत (India) और इजराइल (Israel) के बीच राजनयिक संबंधों के 30 साल पूरे हो गए हैं. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा कि, “हमारे देशों के संबंधों का इतिहास बहुत पुराना है. भारत और इजरायल के बीच सदियों से मजबूत संबंध रहे हैं.” उन्होंने उम्मीद जताई कि भविष्य में दोनों देशों के संबंध नए आयाम स्थापित करेंगे. मोदी ने कहा, “आज जब दुनिया महत्वपूर्ण बदलाव देख रही है. भारत-इजरायल संबंधों का महत्व और भी बढ़ गया है. मुझे पूरा विश्वास है कि भारत-इजरायल की दोस्ती आने वाले दशकों में आपसी सहयोग में नए मील के पत्थर हासिल करेगी.” पीएम ने कहा कि भारत और इजराइल के बीच सहयोग ने दोनों देशों की विकास गाथाओ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. 

पीएम ने कहा, ‘‘हमारे लोगों के बीच सदियों से घनिष्ठ नाता रहा है. जैसा कि भारत का मूल स्वभाव रहा है, सैकड़ों वर्षो से हमारा यहूदी समुदाय भारतीय समाज में बिना किसी भेदभाव के एक सौहार्दपूर्ण वातावरण में रहा और पनपा है. उसने हमारी विकास यात्रा में महत्वपूर्ण योगदान दिया है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘आपसी सहयोग के लिए नए लक्ष्य रखने का इससे अच्छा अवसर और क्या हो सकता है, जब भारत अपनी स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ इस वर्ष मना रहा है और इजराइल अगले साल अपनी स्वतंत्रता की 50 वीं वर्षगांठ मनाने वाला है.’’

Election Commission ने पांचों राज्यों मे 10 फरवरी से 7 मार्च तक एग्जिट पोल पर लगाई रोक, नियम तोड़ने पर होगा एक्शन

प्रधानमंत्री का यह संबोधन ऐसे समय में हुआ है, जब अमेरिकी समाचार पत्र ‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की खबर को लेकर भारत की राजनीति गरमाई हुई है. इस खबर के अनुसार 2017 में भारत और इजराइल के बीच हुए लगभग दो अरब डॉलर के अत्याधुनिक हथियारों एवं खुफिया उपकरणों के सौदे में पेगासस स्पाईवेयर और एक मिसाइल प्रणाली की खरीद मुख्य रूप से शामिल थी. इस रिपोर्ट के बाद विपक्षी दल कांग्रेस ने सरकार पर चौतरफा हमला किया है. कांग्रेस ने सरकार पर संसद और उच्चतम न्यायालय को धोखा देने, लोकतंत्र का अपहरण करने और देशद्रोह में शामिल होने का आरोप लगाया है.

भारत ने 17 सितंबर 1950 को इजराइल को मान्यता दी थी, लेकिन दोनों देशों के बीच पूर्ण राजनयिक संबंध 29 जनवरी 1992 को स्थापित किए गए थे. इस सप्ताह की शुरुआत में भारत में इजराइल के दूत नाओर गिलोन ने कहा था कि भारत-इजराइल राजनयिक संबंधों की 30वीं वर्षगांठ आगे देखने और अगले 30 वर्षों के संबंधों को आकार देने का एक अच्छा अवसर है. उन्होंने भरोसा जताया कि कि विभिन्न क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच घनिष्ठ सहयोग आने वाले वर्षों में और बढ़ेगा. इजराइल में भारत के राजदूत संजीव सिंगला ने कहा, “हमें अपने द्विपक्षीय संबंधों की 30 वीं वर्षगांठ को चिह्नित करने पर गर्व है और इस विशेष मील का पत्थर मनाने के लिए पूरे वर्ष विशेष लोगो का उपयोग करने के लिए तत्पर हैं.”

यह भी पढ़ेंः UP Election: ‘घोषणापत्र’ में यूपी का CM चेहरा और योगी आदित्यनाथ से संबंधों पर क्या बोले डिप्टी CM केशव प्रसाद मौर्या? जानें



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.