Gandhi Ji Death Anniversary: आज  पूरा देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की 74वीं पुण्यतिथि मना रहा है. आज का दिन इतिहास में देश को सत्य और अहिंसा के रास्ते पर चलते हुए आजादी दिलाने वाले प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी मोहनदास करमचंद गांधी की पुण्यतिथि के तौर पर हमेशा के लिए दर्ज है.  साल 1948 में आज के दिन ही यानी 30 जनवरी के दिन ही राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. 

यही कारण है कि देशवासी आज के खास दिन को शहीद दिवस के तौर पर मनाते हैं. इस मौके पर भारत के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री, राजधानी दिल्ली पहुंचते हैं और गांधी जी के योगदान को याद करते हुए राजघाट स्थित उनकी समाधि पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं. इस दौरान पूरा देश बापू को याद कर दो मौन रखता है. 

महात्मा गांधी का नाम ना केवल भारतीय जनमानस में बल्कि पूरी दुनिया में स्थायी छाप की तरह मौजूद है. 13 जनवरी 1948 को उन्होंने हिन्दू-मुस्लिम एकता बनाए रखने और साम्प्रदायिक उन्माद के खिलाफ कलकत्ता में आमरण अनशन शुरू किया था. ये उनके जीवन का आखिरी अनशन था. 18 जनवरी 1948 को अपना अनशन खत्म करने के ठीक 11 दिन बाद 30 जनवरी 1948 को महात्मा गांधी की हत्या कर दी गई. अपनी हत्या से तीन दिन पहले ही गांधीजी दिल्ली में शांति लाने के उद्देश्य से महरौली स्थित कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी दरगाह गए थे. उस समय दिल्ली सांप्रदायिक हिंसा में जल रही थी. दरगाह छोड़ने से पहले गांधीजी ने लोगों की एक बड़ी सभा को संबोधित करते हुए सांप्रदायिक सद्भाव और एकता का संदेश दिया था.

राहुल गांधी ने ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि

बापू की पुण्यतिथि आद देश के तमाम नेता उन्हें याद कर रहे हैं. राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भी एक ट्वीट के जरिए राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि दी. उन्होंने कहा, ‘एक हिंदुत्ववादी ने गांधी जी को गोली मारी थी. सब हिंदुत्ववादियों को लगता है कि गाँधी जी नहीं रहे. जहां सत्य है, वहां आज भी बापू ज़िंदा हैं!

 

अमितशाह ने किया बापू को याद

अमितशाह ने भी बापू को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी. उन्होंने ट्वीट कर लिखा, ‘महात्मा गांधी जी ने हर भारतीय के हृदय में स्वदेशी, स्वभाषा और स्वराज की अलख जगाई. उनके विचार और आदर्श सदैव हर भारतवासी को राष्ट्रसेवा के लिए प्रेरित करते रहेंगे. आज पूज्य बापू की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन कर श्रद्धांजलि देता हूं.’

 

हिमंत बिस्वा सरमा ने दी श्रद्धांजलि

वहीं असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने भी बापू को श्रद्धांजली देते हुए लिखा, ‘शांति के दूत, महात्मा गांधी का सार्वभौमिक भाईचारे का संदेश आज भी गूंजता है. सत्य और समानता की उनकी खोज लाखों लोगों के लिए प्रेरणा का काम करती है.’

 

ये भी पढ़ें: 

India-Israel Relations: भारत-इजराइल के राजनयिक संबंधों के 30 साल पूरे, पीएम मोदी बोले- हमारी दोस्ती नए मुकाम हासिल करेगी

Beating Retreat Ceremony: दिल्ली के ‘विजय चौक’ पर जगमगाया आसमान, खास हुआ आजादी के 75 साल का जश्न, देखें तस्वीरें





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.