यूपी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले पूर्व केन्द्रीय आरपीएन सिंह ने कांग्रेस को झटका देते हुए पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. वे बीजेपी का दामन थामने जा रहे हैं. ऐसा माना जा रहा है कि बीजेपी उन्हें स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ यूपी के सियासी मैदान में लड़ने के लिए उतार सकती है. आइये बताते हैं कौन हैं कुंवर रतनजीत प्रताप नारायण सिंह उर्फ आरपीएन सिंह.

आरपीएन सिंह OBC जाति से आते हैं. इनका जन्म – 25 अप्रैल 1964 को हुआ. आरपीएन सिंह पडरौना के राजदरबार परिवार से आते हैं और इन्हें राजा साहब कहा जाता है. पिता का नाम – सीपीएन सिंह – इंदिरा गांधी की सरकार में रक्षा मंत्री रहे हैं. इनकी माता का नाम – मोहिनी देवी है. आरपीएन सिंह की पत्नी सोनिया सिंह – मशहूर पत्रकार  हैं और उनकी तीन बेटियां हैं.

ये भी पढ़ें: Republic Day: दिल्ली सरकार ने मनाया गणतंत्र दिवस समारोह, CM केजरीवाल का एलान- कार्यालय में अंबेडकर और भगत सिंह की लगेंगी तस्वीरें

आरपीएन सिंह का सियासी सफर

पिता सीपीएन सिंह की हत्या के बाद राजनीति में आए 1996 , 2002 और 2007 तक लगातार तीन बार पडरौना विधानसभा से कांग्रेस पार्टी से विधायक रहे.  2009 में पहली बार लोकसभा का चुनाव लडे और तत्कालीन बीएसपी सरकार के दिग्गज नेता स्वामी प्रसाद मौर्य को हराकर सांसद बने.

2011 की कांग्रेस सरकार में केंद्रीय पेट्रोलियम एवम प्राकृतिक गैस मंत्री राज्य मंत्री रहे. 2012 में केंद्रीय सड़क परिवहन राजमार्ग और कॉरपोरेट मामलों के राज्यमंत्री रहे. 2013 से 2014 तक केंद्रीय गृह राज्य मंत्री रहे. पिछला दो लोकसभा चुनाव भाजपा के कैंडिडेट से हार गए थे.

कांग्रेस संगठन में भी बड़े पदों पर रहे –

– 1997 से 1999 तक उत्तर प्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष रहे

– 2003 से 2006 तक AICC के सचिव रहे

आरपीएन सिंह को झारखंड राज्य के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस में प्रदेश प्रभारी बनाया था जिनकी अगुवाई में कांग्रेस का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा और वहां गठबंधन की सरकार बनी. वर्तमान समय में झारखंड के प्रभारी हैं.

ये भी पढ़ें: UP Election 2022: स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ विधानसभा चुनाव लड़ सकते हैं आरपीएन सिंह



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.