संत रविदास की 645वीं जयंती के मौके पर PM मोदी दिल्ली के करोलबाग में रविदास विश्राम धाम पहुंचे। इतना ही नहीं पीएम मोदी करोलबाग के श्रीगुरु रविदास धाम मंदिर में आयोजित शबद कीर्तन में शामिल हुए। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंदिर में मौजूद महिलाओं के बीच बैठकर मंजीरा भी बजाया। रविदास जयंती हर साल माघ पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है।

पीएम मोदी रविदास की भक्ति में रंगे नज़र आये, पीएम मोदी सभी जनता को समान रूप से देखते है और सभी धर्मों के त्योहारों को समान रूप से मानते है। संत रविदास की जयंती के दिन मंदिर और मठों में कीर्तन-भजन का विशेष आयोजन किया जाता है। कई जगहों पर झांकियां निकाली जाती हैं। साथ ही कई स्थानों पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं.मान्यता है कि संत रविदास का जन्म माघ पूर्णिमाके दिन हुआ था।

गुरु रविदास पहले लोगों में से एक थे जिन्होंने तर्क दिया कि सभी भारतीयों के पास बुनियादी मानवाधिकारों का एक समूह होना चाहिए। वे भक्ति आंदोलन में एक प्रतिष्ठित व्यक्ति बन गए और उन्होंने आध्यात्मिकता की शिक्षा दी और भारतीय जाति व्यवस्था के उत्पीड़न से मुक्ति पर आधारित समानता का संदेश आगे लाने का प्रयास किया। कहा जाता है कि मीरा बाई, गुरु रविदास को अपना आध्यात्मिक गुरु मानती थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.