‘सीएए के कारण अफगानिस्तान के सिखों को भारत आने का भरोसा था’: एस जयशंकर

'सीएए के कारण अफगानिस्तान के सिखों को भारत आने का भरोसा था': एस जयशंकर


8 जून 2023 को विदेश मंत्री एस जयशंकर का दौरा किया दिल्ली में गुरु अर्जुन देव गुरुद्वारा और अफगानिस्तान से आए सिख शरणार्थियों से मिले और उनकी समस्याएं सुनीं। उन्होंने कहा कि नागरिकता संशोधन अधिनियम के कारण अफगानिस्तान में सिखों को भारत लौटने का विश्वास था।

विदेश मंत्री ने सिख शरणार्थियों के मुद्दे को हल करने का आश्वासन देते हुए नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) का उल्लेख किया। “अगर वह कानून नहीं होता तो इन लोगों का क्या होता?” उन्होंने कहा।

अफगानिस्तान से सिख शरणार्थियों से मिलने के बाद मीडिया से बात करते हुए डॉ. एस जयशंकर ने कहा, “मैं उन सिखों से मिला जो अफगानिस्तान से भारत आए थे। मैं यहां उन मुद्दों को सुनने आया हूं जिनका वे यहां सामना कर रहे हैं। उन्होंने कई मुद्दों पर बात की। उनमें से कुछ ने वापस जाने की इच्छा जताई क्योंकि उनकी संपत्तियां वहां हैं। गुरुद्वारे भी हैं। लोग भी उन्हें लेकर परेशान हैं। हम यह पता लगाएंगे कि हम उन्हें आंदोलन से और कैसे सक्षम कर सकते हैं। वीजा को लेकर दिक्कतें हैं। क्‍योंकि आजकल आप जानते हैं कि समस्‍या के अपने कारण होते हैं। अफगानिस्तान से आने वाले लोगों को आसानी से वीजा नहीं मिलता।’

डॉ एस जयशंकर ने कहा, “मैंने उनकी समस्याएं सुनीं। मैंने महसूस किया कि उनके पास एक वैध मामला है जिसमें वे वापस जाते हैं और यहां फिर से आते हैं। उन्हें मल्टीपल एंट्री वीजा मिलेगा। शायद डबल या ट्रिपल-एंट्री वीजा। यह एक मुद्दा है। अन्य मुद्दों में, उनमें से कुछ भारत में नागरिकता प्राप्त करने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। कुछ और भी लोग हैं जिन्होंने अपने बच्चों की खातिर भारत की नागरिकता ले ली है लेकिन बाद में उन्हें उस सिलसिले में कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ा। कहीं ऐसा न हो कि ऐसी स्थिति में हम उनकी मदद करने के बजाय उन पर बोझ ही बन जाएं। यह बहुत ही व्यवहारिक बात है। लेकिन आम आदमी के लिए छोटी-छोटी बातें भी बड़ी परेशानी बन सकती हैं। हमें देखना चाहिए कि हम कैसे पासपोर्ट, वीजा, स्कूल आदि के जरिए उनकी मदद कर सकते हैं।

डॉ एस जयशंकर ने आगे कहा, “अगर हमें प्रति जिले का विवरण मिलता है, तो हम उनकी मदद करेंगे। हमें उनकी मदद करनी चाहिए। क्योंकि हमने विदेशों में भी लोगों की मदद की है। उनमें से कुछ को कुछ समस्याएं हैं। हर समस्या अपने स्वभाव में अनूठी होती है। ऐसे में यह हमारा कर्तव्य है कि हम उनकी स्कूली शिक्षा, नागरिकता, वीजा सहित सभी समस्याओं का ध्यान रखें। मैं सामुदायिक संगठनों से सभी विवरण प्राप्त करने की कोशिश कर रहा हूं और हम इस मुद्दे को आगे बढ़ाएंगे।”

नागरिकता के मुद्दे के बारे में अधिक बताते हुए, मंत्री ने कहा, “हमें यह देखना होगा कि कौन नागरिकता और पासपोर्ट प्राप्त करना चाहता है। उनमें से हर कोई नागरिकता पाने को तैयार नहीं है। उनमें से कुछ ने पासपोर्ट के लिए आवेदन किया है। समूह के कुछ अन्य लोगों ने अन्यत्र आवेदन किया है। यह परिवार से परिवार में भिन्न होता है। उनके पास भी सभी विकल्प और प्राथमिकताएं हैं। हम यह भी देखेंगे कि किन लोगों को कानून के मुताबिक नागरिकता और पासपोर्ट मिलता है। सीएए की वजह से ही इन लोगों को भारत आने का भरोसा था। और हमारा कर्तव्य था कि हम उन्हें पहले यहां लाएं। अगर CAA नहीं होता तो इन लोगों का क्या होता? इस पर विचार करना चाहिए। कई बार लोग हर बात में राजनीतिक एंगल ढूंढ लेते हैं। यह कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है। यह मानवता से जुड़ा मसला है। ऐसे में इन लोगों को कौन छोड़ सकता था? उन्होंने हम पर जो भरोसा दिखाया है, उस पर हमें खुद को खरा साबित करना है। हमें उनके सभी मुद्दों को सबसे अच्छे तरीके से संबोधित करना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि भारत सरकार दौड़ा ऑपरेशन देवी शक्ति अफगानिस्तान में सिखों को बचाने और उन्हें 2021 में भारत लाने के लिए जब तालिबान ने देश पर कब्जा कर लिया था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *