गणपति उत्सव का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दावा किया जा रहा है कि गणपति जुलूस के दौरान करंट लगने से 3 लोगों की मौत हो गई और सात लोग घायल हो गए। वीडियो को गुजरात के अंकलेश्वर का बता कर शेयर किया जा रहा है।

जब इस वायरल पोस्ट की पड़ताल असली न्यूज़ टीम ने की तो पाया कि वायरल दावा गलत है। हमने पड़ताल में पाया कि घटना साल 2019 की है।

पोस्ट का सच जानने के लिए सबसे पहले हमने इनविड टूल की मदद से वीडियो के कई कीफ्रेम निकाले और इन कीफ्रेम को गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया।

आगे पड़ताल में हमें 27 अगस्त, 2019 को इंडिया टीवी की वेबसाइट पर प्रकाशित एक खबर मिली जिसका शीर्षक था: “गुजरात में गणेश प्रतिमा लाते समय बड़ा हादसा, करंट लगने से 2 की मौत, 5 अस्पताल में भर्ती” खबर में बताया गया कि यह घटना वर्ष 2019 में गुजरात के भरूच जिले के अंकलेश्वर की है। बाद में हमने कीवर्ड सर्च किया तो हमें टीवी9 गुजराती के यूट्यूब चैनल पर यह वीडियो 2019 में अपलोड मिला।

अतः हमारी पड़ताल में यह स्पष्ट हो गया कि वीडियो हाल का नहीं बल्कि 2019 का है। वीडियो को भ्रामक दावों के साथ शेयर किया जा रहा है। यह हादसा 3 साल पहले गुजरात के अंकलेश्वर में गणेश मूर्ति को आदर्श बाजार में लाते समय हुआ था। इस हादसे में तीन युवकों की मौत हो गई थी, जबकि अन्य बुरी तरह घायल हो गए थे। बारिश का मौसम था और 23 फीट ऊंची गणेश प्रतिमा थी। ऊपर लटक रहे बिजली के तारों को छुआ, जिससे मूर्ति ला रहे 10 युवक करंट लगने से बुरी तरह घायल हो गए। आस्था और श्रद्धा का मजाक उड़ाने के मकसद से 3 साल बाद एक बार फिर इस घटना को ताजा बताते हुए कुछ शरारती तत्व शेयर कर रहे हैं। यह पोस्ट भ्रामक है और लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचा रहा है।”

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.