सत्य की आवाज को दबाने में बार बार नाकामयाब हो रहे इस्लामिक चरमपंथियों का एक और घिनोना सच सामने आया है। गुजरात के धंधुका में किशन भरवाड़ हत्याकांड मामले में इस्लामिक चरमपंथियों का उद्देशय सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाणके जी की हत्या भी था। गुजरात ATS ने सुरेश चव्हाणके जी की हत्या के षड्यंत्र को बेनकाब किया है। इस बारे में दिल्ली से लेकर दुबई तक के सूत्र सामने आए हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार किशन भरवाड़ हत्याकांड में गिरफ्तार किए गए आरोपियों के पास से गुजरात ATS ने हिटलिस्ट बरामद की जिसमें किस किस की हत्या करनी इसकी पूरी योजना थी। इस हिटलिस्ट में सुदर्शन न्यूज के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाणके जी का नाम भी शामिल है। गिरफ्तार मौलाना व अन्य आरोपी सुरेश चव्हाणके जी की हत्या का षड्यंत्र रच रहे थे। गुजरात एटीएस के सूत्रों ने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में यह बात सामने आई है कि शब्बीर चोपडा ने जून से सितंबर 2021 के बीच मुंबई में टीएफआई के कमर गनी के साथ कई मुलाकातें की थीं। और लगातार सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालकर साम्प्रदयिक दंगा भडक़ाने की फिराक में थे।

धंधुका के किशन भरवाड़ हत्याकांड के आरोपित शब्बीर चोपडा, इम्तियाज पठान और अय्यूब जावरावाला आदि को को 14 फरवरी तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। गुजरात एटीएस सूत्रों के अनुसार, आरोपियों के पास से 11 अन्य लोगों की हिटलिस्ट बरामद की गई है। इस हिटलिस्ट में सुदर्शन न्यूज के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाणके जी, बीएस पटेल, पंकज शर्मा, पुष्पेंद्र कुलश्रेष्ठ, महेंद्र पाल, यति नरसिंहानंद, राहुल शर्मा, राधे श्याम आचार्य, उपदेश राणा, उपासना आर्य और आरएसएन सिंह का नाम है।

गुजरात ATS ने ये भी बताया है कि शब्बीर चोपडा की सीडीआर की जांच से पता चला है कि जून 2021 और जनवरी 2022 के दौरान उसने अय्यूब से काफी बात की थी। एटीएस अधिकारियों ने बताया कि आरोपी भरवाड़ की हत्या करने से पहले धंधुका भी गया था। अब गुजरात ATS हिटलिस्ट की भी जांच कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.