कथित तौर पर ‘भाजपा विधायक अनिल उपाध्याय’ का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। 29 सेकंड के इस वीडियो में एक युवक को पुलिसकर्मी को पीटते हुए देखा जा सकता है। उनके साथ वहां एक महिला और कुछ अन्य लोग भी हैं। वीडियो को शेयर कर यूजर्स दावा कर रहे हैं कि ‘भाजपा विधायक अनिल उपाध्याय’ ने पुलिसवाले से मारपीट की है।

जब इसकी पड़ताल असली न्यूज टीम ने की तो पाया कि वीडियो वर्ष 2018 का है। मेरठ में होटल मालिक ने पुलिसकर्मी को पीटा था। इस मामले में अरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। इतना ही नहीं, भाजपा में कोई अनिल उपाध्याय नाम का विधायक ही नहीं है।

सच जानने के लिए हमने सबसे पहले वीडियो से एक कीफ्रेम निकालकर उसे गूगल रिवर्स इमेज से सर्च किया। इसमें हमें 20 अक्टूबर 2018 को इंडिया टुडे में छपी एक खबर का लिंक मिला। इसमें वायरल वीडियो भी अपलोड किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, मामला 19 अक्टूबर का मेरठ का है। सब-इंस्पेक्टर सुखपाल सिंह एक महिला वकील के साथ रेस्त्रां गए थे। वहां सुखपाल का होटल स्टाफ से विवाद हो गया। इस पर स्टाफ ने रेस्त्रां के मालिक मनीष चौधरी को बुला लिया। मनीष चौधरी भाजपा सभासद है। मनीष ने सब -इंस्पेक्टर को कई थप्पड़ मारे और गालियां दीं। सूचना मिलने पर पुलिस वहां पहुंची और सबको कंकरखेड़ा थाने ले आई। सब-इंस्पेक्टर और महिला वकील की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ दो एफआईआर दर्ज की गई हैं। आरोपी को जेल भेज दिया गया है।

20 अक्टूबर 2018 को जागरण डॉट कॉम में छपी खबर के अनुसार, ब्लैक पेपर रेस्त्रां में दारोगा और उनकी अधिवक्ता मित्र से मारपीट के मामले में भाजपा पार्षद चौधरी को गिरफ्तार कर लिया गया है। महिला वकील ने छेड़छाड़, मारपीट और लूटपाट का आरोप लगाया है। वहीं, मनीष चौधरी का आरोप है कि खाने में देर होने पर महिला अधिवक्ता ने हंगामा कर दिया था। दारोगा उस समय नशे में था। मामला सामने आने के बाद एसएसपी ने दारोगा का लाइन हाजिर कर दिया।

भाजपा सभासद मनीष चौधरी 16 अप्रैल 2021 को टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार मनीष चौधरी कार में मृत पाया गया है। उसको गोली लगी थी। कंकरखेड़ा में कार की ड्राइवर सीट पर उसका शव मिला है। पुलिसकर्मी से मारपीट करने पर वह जेल गया था।

वायरल वीडियो को लेकर यूपी पुलिस ने 13 सितंबर को ट्वीट कर कहा है कि वीडियो 2018 का है। तत्कालीन सभासद समेत 4 आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया जा चुका है। बिना जांच किए भ्रामक पोस्ट कर अफवाह मत फैलाएं।

अतः हमारी पड़ताल में यह स्पष्ट हो गया कि अनिल उपाध्याय नाम का कोई भाजपा विधायक नहीं है। वायरल वीडियो अक्टूबर 2018 का मेरठ का है। दारोगा से मारपीट करने वाले आरोपी का नाम मनीष चौधरी था, जिसे पुलिस ने जेल भेज दिया था। वह भाजपा से सभासद था। पुलिस ने इस पोस्ट को अफवाह बताते हुए शेयर नहीं करने की सलाह दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.