देश में अग्निपथ योजना को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है। रविवार को तीनों सेनाओं की ओर से भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सभी शंकाओं का समाधान करने का प्रयास किया गया। इसी बीच सोशल मीडिया पर कुछ लोग फेक न्यूज फैलाने का काम कर रहे है। जिस को लेकर केन्द्र की ‘अग्निपथ’ योजना को लेकर हुई हिंसा के बीच केन्द्र सरकार ने बड़ा एक्शन लिया है. बता दें कि सरकार ने सोशल मीडिया पर फेक न्यूज फैलाने को लेकर एक्शन लिया है. गौरतलब है कि देश में अग्निपथ योजना को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है। दरअसल, रविवार को तीनों सेनाओं की ओर से भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सभी शंकाओं का समाधान करने का प्रयास किया गया।

सरकार ने अग्निपथ स्कीम को लेकर फर्जी खबरें और भ्रामक जानकारी फैलाने के लिए 35 वाट्सएप ग्रुपों पर प्रतिबंध लगा दिया है। साथ ही योजना के खिलाफ विरोध प्रदर्शप्रदर्शन करने वाले और दुर्भावनापूर्ण गलत सूचना फैलाने के आरोप में 10 लोगों को गिरफ्तार भी किया है। प्रेस सूचना ब्यूरो ने योजना के संबंध में जानकारी को सत्यापित करने के लिए एक तथ्य जांच लाइन भी खोली है।

प्रेस सूचना ब्यूरो ने योजना के संबंध में जानकारी को सत्यापित करने के लिए एक तथ्य जांच लाइन भी खोली है। योजना को लेकर तीनों सेनाओं की ओर से कहा गया कि युवाओं को किसी तरह से न बहकावे में नव आए और शांति बनाए रखने की अपील की।

सेना के अफसरों ने कहा कि अगर कोई प्रोटेस्ट में शामिल है तो वह अग्निवैल नहीं बन पाएगा। इसके लिए उसे हलफनामा देना होगा। यह योजना बंद नहीं होगी। सेना प्रमुखों ने भर्ती और अन्य सुविधाओं को लेकर भी जानकारी दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.