पीएम मोदी के जन्मदिन पर नामीबिया से भारत चीतों को लाया गया। लाए गए चीतों को मध्‍य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में छोड़े जाने के बाद से ही सोशल मीडिया पर कई तरह के पोस्ट वायरल हो रही हैं। अब इसी से जोड़कर एक वीडियो शेयर किया जा रहा है, जिसमें एक तेंदुए को सड़क के किनारे गाय का शिकार करते हुए देखा जा सकता है।

वायरल न्यूज़ की पड़ताल जब असली न्यूज़ टीम ने की तो पाया कि यह दावा फर्जी है। वायरल वीडियो सोशल मीडिया पर अगस्त से है। वहीं, भारत में चीते नामीबिया से 17 सितंबर को लाए गए थे।

वायरल वीडियो की सच्चाई पता लगाने के लिए असली न्यूज़ ने सबसे पहले स्निपिंग टूल की मदद से स्क्रीनशॉट्स को निकाला और फिर गूगल इमेज में अपलोड करके सर्च किया। वायरल वीडियो हमें अनुज सिंह नाम के यूट्यूब चैनल पर मिला। इसे 16 अगस्त 2022 को अपलोड किया गया था। वीडियो के साथ लिखा गया कि Leopard Killed cow in Ranikhet Uttarakhand || उत्तराखंड के रानीखेत में तेंदुए ने गाय को शिकार बनाया।

आगे पड़ताल करते हुए ये वीडियो हमें नेचर एंड हेरिटेज नाम के यूट्यूब चैनल पर भी मिला। 17 अगस्त 2022 को वीडियो को अपलोड कर लिखा गया, ‘तेंदुए के जबड़े की जबरदस्त ताकत।

पड़ताल में हमें नवभारत टाइम्स की वेबसाइट पर 16 अगस्त 2022 को प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट में वीडियो का इस्तेमाल किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, ‘यह घटना उत्तराखंड में रानीखेत के पास हुई थी। वीडियो को ट्विटर पर ‘इंडियन फॉरेस्ट सेवा’ (IFS) के अधिकारी साकेत बडोला ने साझा किया था। पूरी खबर यहां पढ़ी जा सकती है। ‘

आईएफएस अधिकारी साकेत बडोला ने भी अपने ट्विटर हैंडल पर वीडियो को 15 अगस्त 2022 को शेयर किया था।

अतः असली न्यूज़ की जांच में यह स्पष्ट हो गया कि नामीबिया से भारत लाए गए चीतों को लेकर किया जा रहा दावा गलत है। वायरल वीडियो उत्तराखंड के रानीखेत में तेंदुए द्वारा गाय का शिकार करने का है, जिसे अब नामीबिया से भारत लाए गए चीतों से जोड़कर वायरल किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.