[ad_1]

मुंबई क्राइम ब्रांच (Mumbai Crime Branch) की यूनिट 4 ने एक ऐसे शख़्स को गिरफ़्तार किया है जो की लोगों की कोविड (Covid) का फ़र्ज़ी निगेटिव सर्टिफिकेट बनाकर इसलिए देता था की लोगों को यात्रा करने का मौक़ा मिले. इसके अलावा जांच में यह भी सामने आया की कुछ लोगों ने इस आरोपी से कोविड (Corona) की फ़र्ज़ी पॉज़ीटिव रिपोर्ट भी बनवाई है. लोगों ने यह रिपोर्ट इसलिए बनवाई ताकि उन्हें उनके ऑफिस से छुट्टी लेने में दिक़्क़त न आए. क्राइम ब्रांच (Crime Branch) के अधिकारियों के मुताबिक़ गिरफ़्तार आरोपी का नाम विक्रम तेली है जो की एक मोबाइल (Mobile) की दुकान चलाता है और अधिक पैसे कमाने के लिए इस तरह का फ़र्ज़ीवाड़ा करता था.

क्राइम ब्रांच के डीसीपी नीलोत्पल ने एबीपी न्यूज़ को बताया की हमें जानकारी मिली थी की इस तरह से एक शख़्स लोगों को फ़र्ज़ी कोविड की रिपोर्ट बनाकर दे रहा है. जिसके बाद हमने एक फ़र्ज़ी ग्राहक भेजा और हमने ग्राहक बनकर उससे फ़र्ज़ी रिपोर्ट की मांग की और जैसे ही उसने रिपोर्ट की कॉपी दी हमने उसे रंगे हाथ पकड़ लिया और गिरफ़्तार किया.

क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने 4 फ़र्ज़ी ग्राहक भेजे थे. जिसके से दो लोगों ने पॉज़िटिव रिपोर्ट मांगी और दो लोगों ने निगेटिव रिपोर्ट मांगी और तेली ने दोनो ही रिपोर्ट बनाकर क्राइम ब्रांच के अधिकारियों को दी. पूछताछ में आरोपी ने बताया की वो निट्रो प्रो पीडीएफ़ एडिटर का इस्तेमाल कर इस तरह से फ़र्ज़ी रिपोर्ट बनाकर देटा था.

क्राइम ब्रांच ने वरिष्ठ अधिकारी ने इस मामले पर छापेमारी करने के लिए पुलिस निरीक्षक इंद्रजीत मोरे, जगदीश भांबल, एपीआई गव्हाने, बिरादार, समेत 7 और लोगों की टिम बनाई थी. पुलिस ने छापेमारी के दौरान जब आरोपी के कम्प्यूटर की जांच की तो उसने से 400 से 500 लोगों को फ़र्ज़ी सर्टिफिकेट दिए हैं.

नौसेना का ‘Milan-2022’ एक्सरसाइज इसी महीने, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, रूस समेत 46 देशों को निमंत्रण

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.