सोशल मीडिया पर दिल्ली वक्फ बोर्ड के नाम से एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है। प्रोफाइल नेम में दिल्ली वक्फ बोर्ड का नाम लिखा हुआ है। स्क्रीनशॉट में लिखा है कि ज्यादातर रेलवे लाइन मजारों की जमीन पर बनी हुई हैं। जल्द ही दिल्ली वक्फ बोर्ड रेलवे पर अपने कब्जे के लिए सुप्रीम कोर्ट जाएगा।

जब इसकी पड़ताल असली न्यूज टीम ने कि तो पाया दिल्ली वक्फ बोर्ड के नाम से फर्जी ट्वीट के स्क्रीनशॉट को वायरल किया जा रहा है। दिल्ली वक्फ बोर्ड का ट्विटर अकाउंट वेरिफाइड नहीं है, जबकि वायरल स्क्रीनशॉट में वेरिफाइड ट्विटर अकाउंट दिख रहा है।

वायरल दावे का सच जानने के लिए सबसे पहले हमने स्क्रीनशॉट को ध्यान से देखा। इसमें सबसे ऊपर लिखा है, ‘ओके सटायर‘। इससे हमें वायरल स्क्रीनशॉट संदिग्ध लगा। वायरल स्क्रीनशॉट में ट्वीट का टाइम 19 सितंबर 2022 और समय सुबह 9.21 बजे का दिया गया है।

आगे पड़ताल करते हुए हमने वायरल स्क्रीनशॉट में दी गई आईडी @DelhiWaqfBoard को चेक किया। सर्च करने पर हमें यह ट्विटर अकाउंट मिला। इसके बायो में लिखा है कि यह दिल्ली वक्फ बोर्ड (आर्काइव लिंक) की आधिकारिक ट्विटर आईडी है। हालांकि, यह वेरिफाइड नहीं है और मार्च 2021 से सक्रिय है। इससे आखिरी ट्वीट 16 सितंबर 2022 को किया गया है। मतलब वायरल स्क्रीनशॉट से पहले आखिरी ट्वीट किया गया है।

हमने इसका कैशे वर्जन भी देखा, लेकिन ट्विटर हैंडल पर इस तरह का कोई ट्वीट नहीं मिला। गूगल पर कीवर्ड से ओपन सर्च में भी हमें ऐसी कोई खबर नहीं मिली।

आगे सच जानने के लिए हमने ‘ओके सटायर‘ को फेसबुक पर सर्च किया। इसमें हमें OK Satire नाम से बने फेसबुक पेज पर भी यह स्क्रीनशॉट मिला। इसे 19 सितंबर को सुबह 10.07 बजे पोस्ट किया गया है। मतलब स्क्रीनशॅट में दिए गए समय से कुछ ही देर बाद। इस पेज से सटायर टाइप की कई पोस्ट की गई हैं। इन पर भी सबसे ऊपर ‘OkSatire’ लिखा है। मतलब यह पोस्ट मजाकिया तौर पर बनाई गई थी।

अतः असली न्यूज़ की पड़ताल में यह स्पष्ट हो गया कि दिल्ली वक्फ बोर्ड के नाम से फर्जी ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है। इसे मजाकिया तौर पर शेयर किया गया था, जिसे यूजर्स सच समझकर शेयर कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.