कथित तौर पर पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने वाली भाजपा की पूर्व नेता व प्रवक्ता नूपुर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट से मंगलवार को बड़ी राहत देते हुए विवादित टिप्पणी के मामले में गिरफ्तारी पर 10 अगस्त तक के लिए रोक लगा दी है। इसको लेकर सोशल मीडिया पर नूपुर शर्मा को बधाई देते हुए एक तस्वीर वायरल हो रही है।

वायरल तस्वीर में एक मुस्लिम महिला पोस्टर लिए हुए खड़ी है। पोस्टर में लिखा है, “कोर्ट / मदरसा/मौलवी बताएं आखिर आयशा की शादी किस उम्र में हुई ? मुझे नूपुर शर्मा को गलत साबित करना है और व माफी मांगे।”

पोस्ट को शेयर करते हुए एक यूजर ने लिखा है- विदेशों में मुस्लिम माताएं, बहने आई नूपुर शर्मा के समर्थन में आ रही है।

हमने जब वायरल तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च किया तो हमने पाया कि तस्वीर 9 फरवरी 2022 को डॉन पेज पर पोस्ट किया गया है। प्रकाशित खबर के अनुसार 9 फरवरी को नई दिल्ली के शाहीन बाग में कर्नाटक राज्य के कुछ कॉलेजों में हुए हिजाब प्रतिबंध के खिलाफ ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMM) द्वारा आयोजित एक विरोध प्रदर्शन में भाग लेते हुए एक मुस्लिम महिला की तस्वीर है।

इसके अलावा इस पोस्ट का पूरा तस्वीर हमें द प्रिन्ट पर मिली। दरअसल असली फोटो में लड़की के प्लेकार्ड पर लिखा है कि हिजाब हमारा अधिकार है, यह सिर्फ कपड़े का टुकड़ा नहीं है। इसकी हमारी गरिमा, यह हमारा गौरव है।

इससे यह स्पष्ट होता है कि तस्वीर को एडिट किया गया है। इसमें से हिजाब की बात को एडिट कर के नूपुर शर्मा वाला स्लोगन जोड़ दिया गया है।

तथ्यों की जांच के पश्चात हमने पाया कि हिजाब समर्थन तस्वीर को विदेशी मुस्लिम महिलाओं ने नूपुर शर्मा का समर्थन करने के झूठे दावे के साथ वायरल की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.