सऊदी अरब में स्थित काबा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। जिसमें लोगों की भीड़ के बीच एक आदमी को देखा जा सकता है। इस शख्‍स ने हाथों में एक बोतल पकड़ी हुई है। बोतल से यह शख्‍स काबा के ऊपर कुछ फेंक रहा है। इसके बाद वहां मौजूद लोग उस शख्स को पकड़ लेते हैं।

इस वीडियो को सोशल मीडिया पर वायरल करते हुए यह दावा किया जा रहा है कि एक ईरानी युवक ने मक्का में दूध चढ़ाते हुए कहा कि ये शिवलिंग है।

असली न्यूज़ द्वारा इसकी पड़ताल करने पर पता चला कि वायरल वीडियो 2017 का है। वीडियो में दिख रहा युवक मानसिक रूप से बीमार था और उसने वहां आत्‍महत्‍या करने की कोशिश की थी। दूध चढ़ाने का दावा झूठा है।

सच्चाई जानने के लिए सबसे पहले हमने वीडियो को इनविड टूल में अपलोड किया और कीफ्रेम्स निकाल कर गूगल रिवर्स इमेज के ज़रिये वीडियो को तलाश करना शुरू किया। सर्च में हमें इसी वीडियो के मंज़र से जुड़ा वीडियो मिडिल ईस्ट आई के ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर 9 फरवरी 2019 को अपलोड हुआ मिला। यहाँ वीडियो के साथ दी गई जानकारी के मुताबिक, ‘मक्का में काबा के बाहर इस शख्स ने खुद को आग लगाने की कोशिश की।”

इसी आधार पर हमने अपनी जाँच को आगे बढ़ाया और हमें इसी मामले से जुड़ी खबर अलअरबिया इंग्लिश की वेबसाइट पर 7 फरवरी 2017 को पब्लिश हुए एक आर्टिकल में मिली। इस खबर के अनुसार, ”ग्रैंड मस्जिद के सुरक्षा बल के मीडिया प्रवक्ता समेह अल-सिल्मी ने कहा कि एक व्यक्ति को सोमवार शाम को गिरफ्तार कर लिया गया, जब उसने अपने कपड़ों पर पेट्रोल डाला और खुद को आग लगाने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने तुरंत देखा और उसे गिरफ्तार करने में सक्षम रहे। अल-सिल्मी ने कहा कि उनकी हरकतें साबित करती हैं कि वह मानसिक रूप से बीमार है और कानूनी कार्रवाई की जाएगी।”

अपनी पड़ताल की पुष्टि करने के लिए हमने सऊदी अरब के एक पत्रकार से संपर्क किया और उनके साथ वायरल वीडियो शेयर किया। उन्होंने हमें बताया, ‘यह घटना 2017 की है। पुलिस के मुताबिक, वीडियो में दिख रहा शख्स मानसिक रूप से अस्थिर है। वह काबा के बाहर खुद को जलाने की कोशिश कर रहा था।’

अतः अपनी पड़ताल में हमने पाया कि वायरल वीडियो 2017 की है। इस वीडियो में दिख रहा युवक मानसिक रूप से बीमार था और उसने वहां आत्‍महत्‍या करने की कोशिश की थी। दूध चढ़ाने का दावा फर्जी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.