इस साल 2022 में उत्तर प्रदेश समेत चार अन्य राज्यों में चुनाव होने हैं। जिनको लेकर तमाम बड़ी पार्टियों की रैलियां, जनसभाएं आयोजित हो रही हैं। सभी पार्टियों ने अपने स्टार प्रचारकों को मैदान में उतार रखा है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी भाजपा की ओर से चुनावी प्रचार-प्रसार में जुटे हुए हैं। पंजाब चुनाव के लिए भाजपा की ओर से प्रतिनिधित्व करने पहुंचे नरेंद्र मोदी के काफिले को पंजाब में एक फ्लाईओवर पर प्रदर्शनकारियों ने 15 मिनट तक रोका, जिस वजह से पीएम की गाड़ी आगे ना निकल सकी। गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार को इसके ऊपर जवाब देने के लिए कहा है और इसे पीएम की सुरक्षा में बहुत बड़ी ‘गंभीर भूल’ बताया है।

गृह मंत्रालय ने अपना बयान जारी करते हुए कहा कि “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पंजाब यात्रा के दौरान गंभीर सुरक्षा खामी के बाद उनके काफिले ने लौटने का फैसला किया। मंत्रालय ने पंजाब सरकार से इस चूक के लिए जवाबदेही तय करने और कड़ी कार्रवाई करने के लिए कहा है।” बयान में आगे कहा गया कि “आज सुबह प्रधानमंत्री बठिंडा पहुंचे, जहां से उन्हें हेलिकॉप्टर से हुसैनीवाला स्थित राष्ट्रीय शहीद स्मारक जाना था। बारिश और खराब दृश्यता के कारण, पीएम ने लगभग 20 मिनट तक मौसम साफ होने का इंतजार किया।”

बयान में आगे कहा गया था कि “जब मौसम में सुधार नहीं हुआ, तो यह तय किया गया कि वह सड़क मार्ग से राष्ट्रीय मेरीटर्स मेमोरियल का दौरा करेंगे, जिसमें 2 घंटे से अधिक समय लगेगा। डीजीपी पंजाब पुलिस द्वारा आवश्यक सुरक्षा व्यवस्था की पुष्टि के बाद वह सड़क मार्ग से यात्रा करने के लिए आगे बढ़े। हुसैनीवाला में राष्ट्रीय शहीद स्मारक से लगभग 30 किलोमीटर दूर है जब पीएम का काफिला एक फ्लाईओवर पर पहुंचा, तो पाया कि कुछ प्रदर्शनकारियों ने सड़क रोक दी था। पीएम 15-20 मिनट फ्लाईओवर पर फंसे रहे। यह पीएम की सुरक्षा में एक बड़ी चूक थी।”

आपको बता दें कि पीएम के इस दौरे की जानकारी पंजाब सरकार को पहले ही दे दी गई थी। प्रत्येक आकस्मिक योजना के लिए पहले से ही तैयार रहने के आदेश भी दिए गए थे। पंजाब सरकार की इस भूल के बाद गृह मंत्रालय की ओर से कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश भी जारी किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.