अरविंद केजरीवाल के भ्रष्टाचार विरोधी मॉडल के तहत पंजाब की भगवंत मान सरकार ने मंगलवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए अपने मंत्री को बर्खास्त कर दिया। पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. विजय सिंगला के खिलाफ भ्रष्टाचार में लिप्त होने के पुख्ता सबूत मिले थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री “भ्रष्टाचार के मामलों में शामिल” थे और उनके पास इस बात के पुख्ता सबूत हैं।

बर्खास्त मंत्री मनसा विधानसभा से विधायक हैं। सीएम मान ने मंत्री के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के भी आदेश दिए। बर्खास्त मंत्री पर आरोप है कि उन्होंने हर सरकारी टेंडर से एक फीसदी कमीशन की मांग की थी।

सीएम मान ने कहा कि भ्रष्टाचार के लिए “जीरो टॉलरेंस” होगा। स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ शिकायत मिलने के बाद मुख्यमंत्री ने यह बड़ा कदम उठाया है।

एएनआई ने बताया, कुछ मिनट बाद, विजय सिंगला को उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के सिलसिले में राज्य के भ्रष्टाचार विरोधी विभाग ने गिरफ्तार कर लिया।

पंजाब के सीएम द्वारा कथित भ्रष्टाचार के आरोप में मंत्री को बर्खास्त करने के तुरंत बाद, उनकी पार्टी के बॉस अरविंद केजरीवाल ने उनकी बहुत प्रशंसा की, जिन्होंने कहा कि इस कदम से “मेरी आंखों में आंसू आ गए”।

एक आम डॉक्टर से मंत्री पद पर पहुंचे डॉ. विजय सिंगला ने अपनी बीडीएस की शिक्षा राजिंदरा मेडिकल कॉलेज पटियाला से पूरी की। उनके पिता केशोराम सिंगला गांव भुपाल कलां में एक छोटी सी किराने की दुकान चलाते थे जो बाद में मानसा आकर रहने लगे। करीब 10 वर्ष पहले ही सिंगला आम आदमी पार्टी में शामिल हुए और इस बार उन्हें मानसा विधानसभा से आप ने टिकट दी। डॉ. सिंगला ने मानसा से कांग्रेस के प्रसिद्ध गायक सिद्धू मूसेवाला को 60 हजार से अधिक वोटों से हराया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.