सोशल मीडिया पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का 15 सेकंड का एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि शिवराज सिंह चौहान एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कह रहे है कि “मैं सरकारी स्कूल में पढ़ा, भोपाल में भी सरकारी स्कूल में ही पढ़ा। हमारे गुरूजी आज भी वो हैं, श्रद्धेय रतनचंद जैन; मैं जाता था उनके सिर पर हम सभी पैर रखते थे।”

जब इसकी पड़ताल असली न्यूज़ टीम ने की तो पाया वायरल दावा फ़र्ज़ी है। वीडियो को एडिट करके शेयर किया जा रहा है।

इस वीडियो को मध्य प्रदेश कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से शेयर किया गया है । पोस्ट में उन्होंने लिखा है कि “ये अपने गुरूजी के सिर पर पैर रखते थे। वाह ! शिवराज, एक नंबरी लफ़्फ़ाज़।“

वायरल वीडियो का सच जानने के लिए सबसे पहले हमने यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च किया। जिसके बाद यह हमें पूरा वीडियो ओड़िसा टीवी के यूट्यूब चैनल पर मिला ।

ओड़िसा टीवी के वीडियो में 23 सेकंड के टाइमस्टैम्प पर हम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को कहते हुए सुन सकते है कि ‘सदैव ही, उनका आशीर्वाद लेने के लिए हम अपने सिर को उनके पैरों पर सदैव ही रखते थे।

मूल वीडियो शिवराज सिंह चौहान के ओफ़िशिअल ट्विटर अकाउंट पर भी है। ये वीडियो 1 घंटा 27 मिनट लंबा है और वायरल वीडियो का हिस्सा 41 मिनट 14 सेकंड से आगे सुना जा सकता है।

वायरल वीडियो में उनके द्वारा कहे गए बयान को सुधारते हुए वो कहते है कि ‘सदैव ही, उनका आशीर्वाद लेने के लिए हम अपने सिर को उनके पैरों पर सदैव ही रखते थे।’

ये वीडियो भोपाल में 4 सितंबर 2022 को आयोजित ‘नवनियुक्त शिक्षकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम’ में मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश के शिक्षकों को सम्बोधित करते वक़्त का है।

अतः हमारी पड़ताल में साबित हो गया कि वायरल वीडियो अधूरा है और मूल वीडियो में शिवराज चौहान ने खुद को सुधारते हुए कहा कि वो अपने गुरू के पैरों पर सर रखते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.