National Voters Day: आज देश भर में नेशनल वोटर्स डे (National Voters Day) मनाया गया है. नेशनल वोटर्स डे केंद्रीय चुनाव आयोग (Election commission) की स्थापना वाले दिन यानी हर साल 25 जनवरी को मनाया जाता है. 25 जनवरी 1950 को केंद्रीय चुनाव आयोग की स्थापना हुई थी. इसी वजह से साल 2011 से हर साल 25 जनवरी को नेशनल वोटर्स डे के तौर पर मनाया जा रहा है. दिल्ली (Delhi) में हुए इस कार्यक्रम में मुख्य चुनाव आयुक्त (CEC) सुशील चंद्रा (Sushil Chandra) ने कहा इतने बड़े देश में चुनाव करवाना अपने आप में एक बड़ी चुनौती है लेकिन केंद्रीय चुनाव आयोग लगातार इस चुनौती पर खरा उतरता रहा है.

इसी कार्यक्रम में मौजूद कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा की किसी की भर्त्सना करना तो आसान है लेकिन अगर वह कुछ अच्छा काम कर रहा है तो उसके अच्छे काम की तारीफ भी होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि केंद्रीय चुनाव आयोग के साथ भी ऐसा ही है. चुनाव आयोग को लेकर लोग टिप्पणियां तो बहुत करते हैं लेकिन चुनाव आयोग द्वारा की जा रही मेहनत पर उनको उस तरह की सरहाना नहीं मिलती.

नेशनल वोटर्स डे के मौके पर आयोजित किए गए कार्यक्रम में केंद्रीय मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि मतदान अहम नागरिक अधिकारों में एक है और ये लोकतांत्रिक संविधान पर आस्था को दर्शाता है. चुनाव में हर एक मतदाता कि हिस्सेदारी अहम है. मौजूदा समय में देश मे 95.3 करोड़ मतदाता हैं इनमें से 49 करोड़ पुरुष और 46 करोड़ महिलाएं हैं.

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि हमारा मकसद है की कोई मतदाता व्यवस्था कि कमी से मतदान करने से न छूटे. सुशील चन्द्र ने कहा कि कोरोना काल में असाधारण परिस्थितियों में आयोग और सहयोगियों ने काम किया, जिसकी पूरी दुनिया में सराहना हुई है. मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि मैं राजनीतिक दलों कि सराहना करता हूं कि कोरोना काल मे हो रहे चुनावों के दौरान वो कोविड संबंधित व्यवहार और प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं.

वहीं कार्यक्रम में मौजूद केंद्रीय कानून मंत्री किरण रिजिजू ने चुनाव आयोग की तारीफ करते हुए कहा कि केंद्रित चुनाव आयोग ने इतने सालों में बहुत बेहतरीन काम किया है. मेरा खुद का पिछले 7 चुनावों के लड़ने का अनुभव भी बहुत अच्छा रहा यही भारत के लोकतंत्र को और मजबूत बनाता है. किरेन रिजिजू ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने संसद से चुनाव सुधार बिल लेकर आई जिसका मकसद चुनाव को और आसान और लोगों के लिए सुविधाजनक बनाने का है.

कानून मंत्री किरण रिजिजू ने केंद्रीय चुनाव आयोग पर उठने वाले सवाल और टिप्पणियों को लेकर भी अपनी बात रखी. केंद्रीय कानून मंत्री ने कहा कि न्यायपालिका, विधायिका और चुनाव आयोग के बीच तालमेल होना ज़रूरी है, किसी के काम मे हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए. हर किसी को भर्त्सना करने का अधिकार है लेकिन इस दौरान भाषा की मर्यादा को भी ध्यान में रखना चाहिए. रिजिजू ने कहा कि कोर्ट को भी ध्यान देना चाहिए कि वो सवाल उठाते हुए या भर्त्सना करते हुए किस तरह के शब्दों का इस्तेमाल कर रहा है. कानून मंत्री ने कहा कि हर कोई अपना काम कर रहा है इस दौरान1 तीखी आलोचना करने में बुराई नहीं है पर अच्छे कामों की सराहना भी होनी चाहिए.

इस बीच केंद्रीय चुनाव आयोग पर सवाल उठाने वालों पर केंद्रीय कानून मंत्री ने पलटवार करते हुए कहा कि जो लोग लोकतंत्र को चुनौती देना चाहते हैं वो चुनाव आयोग और चुनाव को ही चुनौती देने लगते हैं. जबकि हमको याद रखना होगा कि केंद्रीय चुनाव आयोग ने अब तक हमारे देश में लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए कितने अच्छे ढंग से काम किया है यहां तक की कोरोना काल में भी केंद्रीय चुनाव आयोग ने पूरी सावधानी और नियमों का पालन करते हुए चुनाव संपन्न करवाएं.

केंद्रीय कानून मंत्री ने इसके साथ ही वोटर कार्ड को आधार से जोड़ने वाले कानून को लेकर भी जानकारी देते हुए कहा कि इसको लेकर विवाद ज़रूर खड़ा किया गया पर ये तो जन प्रतिनिधित्व अधिनियम में ही लिखा हुआ है की एक व्यक्ति एक ही वोट दें. इसी को सुनिश्चित करने के लिए इसको आधार से जोड़ने वाला कानून लाया गया है, ऐसे में विवाद खड़ा करना सही नहीं है.

इस कार्यक्रम के दौरान मतदान को लेकर जागरूकता फैलाने वालों और चुनावों को बेहतर ढंग से संपन्न करवाने वाले लोगों और मतदाताओं के लिए अलग अलग कार्यक्रम चलाने वाले लोगों को भी पुरस्कृत किया गया.

Republic Day 2022 की पूर्व संध्या पर प्रेसिडेंट मेडल फॉर पुलिस का हुआ एलान, जानें किसे क्या मिला

राजपथ पर 73वां गणतंत्र दिवस मनाने के लिए तैयारी पूरी, खास मेहमान से लेकर फ्लाई पास्ट तक के बारे में जानें



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.