सोशल मीडिया पर यूपी पुलिस के नाम से मैसेज वायरल हो रहा है।जिसमें लिखा है कि मेडिकल के कुछ स्टूडेंट आपके घर आते हैं और ब्लड टेस्ट फ्री में करने को कहते हैं तो तत्काल पुलिस को सूचित करें, क्योंकि वे आतंकी संगठन के लोग हैं, जो इंजेक्शन के जरिए शरीर में एड्स वायरस डाल देंगे।

मैसेज में लिखा है कि अगर आपके घर कुछ लड़के-लड़कियां आते हैं और कहते हैं कि वो मेडिकल स्टूडेंट हैं और आपका शूगर या बीपी या कोई अन्य ब्लड टेस्ट फ्री में करने के लिए बोलते हैं तो आप तुरेत पुलिस को फोन करें क्योंकि वो आतंकवादी संगठन के लोग हैं और उनके इन्जेक्शन में एड्स का वायरस है जो वो ब्लड लेने के बहाने आपके शरीर में डाल देंगे। किसी भी अनजान व्यक्ति को अपने घर में न घुसने दें।

जनहित में जारी
UP Police
इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें

जब इस वायरल मैसेज की पड़ताल असली न्यूज टीम ने की तो पाया कि वायरल दावा गलत है। यूपी पुलिस ने इस तरह का कोई मैसेज जारी नहीं किया है।

वायरल दावे की पड़ताल के लिए हमने कीवर्ड से इसे गूगल सर्च किया। इससे पता चला कि यह मैसेज पहले दिल्ली पुलिस, एमपी पुलिस और राजस्थान पुलिस के नाम से वायरल हो चुका है।

आगे सर्च में हमें हिन्दुस्तान में 3 नवंबर 2019 का एक आर्टिकल मिला। जिसमें लिखा है, वॉट्सऐप पर चल रहे मैसेज को लेकर मैनपुरी पुलिस ने ट्वीट किया है। मैसेज में मेडिकल स्टूडेंट को आतंकी संगठन का सदस्य बताया जा रहा है। मैनपुरी पुलिस ने इस तरह के मैसेज को फर्जी बताया है। पुलिस ने लोगों से इस तरह के मैसेज को शेयर नहीं करने की अपील की है।

पुष्टि के लिए हमने यूपी पुलिस का ट्विटर खंगाला तो यूपी पुलिस द्वारा 3 नवंबर 2019 को किए गए ट्वीट में वायरल मैसेज को फेक बताया गया है। साथ में इस पोस्ट को शेयर नहीं करने की अपील की गई है।

अपनी पड़ताल में हमने पाया कि ब्लड टेस्ट के बहाने शरीर में एड्स वायरल डालने वाला मैसेज फर्जी है। यूपी पुलिस ने ऐसा कोई भी मैसेज जारी नहीं किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.