राष्ट्रमंडल खेलों का समापन हो चूका है। भारत ने राष्ट्रमंडल खेल 2022 में कुल 61 पदक जीते। इसमें 22 स्वर्ण, 16 रजत और 23 कांस्य पदक शामिल हैं। कुश्ती में स्वर्ण पदक जीतने वाले खिलाड़ियों में बजरंग पुनिया, दीपक पुनिया, रवि कुमार दहिया और नवीन शामिल हैं। राष्ट्रमंडल खेलों के समापन बाद से सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है। तस्वीर में किसान नेता राकेश टिकैत के साथ पहलवान बजरंग पुनिया, दीपक पुनिया और रवि कुमार दहिया एक मंच पर बैठे नजर आ रहे हैं। वायरल तस्वीर को इस दावे के साथ साझा किया जा रहा है कि इसे किसानों के विरोध के दौरान क्लिक किया गया था।

वायरल तस्वीर को शेयर करते हुए राजस्थान यूथ कांग्रेस ने लिखा, ‘यह तस्वीर किसान आंदोलन की है। और ये तीनों पहलवान अब विजयी होकर लौटे हैं।”

कांग्रेस नेता अलका लांबा ने राजस्थान यूथ कांग्रेस को कोट-ट्वीट करते हुए लिखा, ‘हमारे किसानों का आशीर्वाद और दुआएं उन सभी के साथ हैं।

जब हमने इसकी पड़ताल की तो देखा वायरल तस्वीर में पीछे एक पोस्टर है जिसमें हिंदी में लिखा हुआ टेक्स्ट है जिस पर ‘प्लेयर्स’ (‘खिला वाद का’) और ‘सीरेमोनी’ (‘समारोह’) लिखा हुआ है। इन कीवर्ड का उपयोग करके हमने Google पर खोज की। यह हमें सितंबर 2021 में प्रकाशित ईटीवी भारत की एक रिपोर्ट तक ले गया। जिसके अनुसार, सर्वजाति किसान गरीब मंच ने सोनीपत के खरखोदा में एक सम्मान समारोह का आयोजन किया था। इस कार्यक्रम में टोक्यो ओलंपिक के विजेताओं को सम्मानित किया गया। इस समारोह में किसान नेता राकेश टिकैत भी मौजूद थे।

हमें इस घटना से जुड़ा एक वीडियो भी मिला। वायरल तस्वीर में मौजूद खिलाड़ी समेत किसान नेता राकेश टिकैत को इस वीडियो में देखा जा सकता है। इस फोटो में पोस्टर भी साफ नजर आ रहा है- ‘ओलंपिक मेडलिस्ट और प्रेसिडेंट अवॉर्डी प्लेयर्स का सम्मान समारोह’ (‘ओलिंपिक गुणी गुणी का सम्मान बैठक’)। इस वीडियो में किसान नेता राकेश टिकैत ने बयान देते हुए कहा कि एक खिलाड़ी किसी पार्टी, जाति या धर्म का नहीं होता है। खिलाड़ी को राजनीति से दूर रहना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.